Welcome

Our Products

Best Selling Products

~~~ Customer Says ~~~

Recent Products

  • About this item

    • Certified Hematine Gun Metal
    • Energised gemstone – stone is purified and energised. You just need to wear on designated day
    • 100% Natural Gemstone For Astrological Positive Effect
    • The gemstone is stated to improve concentration, which is usually especially helpful in achieving academic and professional goals. Also, it does not hurt that the gemstone is also identified to attract wealth
    • The photo gives a good representation of the gemstone but does not represent the actual size, shape and color.

    Product specifications

    Brand Samisej jewels
    Collection pendant / bracelet size
    Stone GUNMATEL
    Lab Pangem testing laboratory
     Metal natural stone
    Model Number 09128B
    Gemstone Weight 10.89 Carats
    1,514.25 incl. GST
  • About this item

    • Beautiful Silver *Kuber Bhagwan Murti* in a Sitting Pose on Lotus with high polish finish.
    • Traditionally, any shubh karya (auspicious work or activity) in Hinduism commence with an invocation to Lord Kuber Bhagwan.
    • The destroyer of all the evils and the first one to be worshipped in any pious rituals not only in India, but world over by Hindus.
    • Elegant Design: This Item Have Antique Elegant Design That Gives Addition To Your Home Decor Or Can Be Use For The Decoration Of Restaurants, Hotels,Office.
    5,052.55 incl. GST
  • About this item

    • Beautiful Silver *Lakshmi Murti* in a Sitting Pose on Lotus with high polish finish.
    • Traditionally, any shubh karya (auspicious work or activity) in Hinduism commence with an invocation to Lord Lakshmi.
    • The destroyer of all the evils and the first one to be worshipped in any pious rituals not only in India, but world over by Hindus.
    • Elegant Design: This Item Have Antique Elegant Design That Gives Addition To Your Home Decor Or Can Be Use For The Decoration Of Restaurants, Hotels,Office.
    2,345.83 incl. GST
  • About this item

    • Beautiful Silver *Lakshmi Murti* in a Sitting Pose on Lotus with high polish finish.
    • Traditionally, any shubh karya (auspicious work or activity) in Hinduism commence with an invocation to Lord Lakshmi.
    • The destroyer of all the evils and the first one to be worshipped in any pious rituals not only in India, but world over by Hindus.
    • Elegant Design: This Item Have Antique Elegant Design That Gives Addition To Your Home Decor Or Can Be Use For The Decoration Of Restaurants, Hotels,Office.
    1,400.62 incl. GST

Sale Products

  • पुखराज, बृहस्पति ग्रह का प्रतिनिधित्व करता है। यह पीले रंग का एक बहुत मूल्यवान रत्न है जिसकी कार्य क्षमता कई गुना प्रचलित है। ज्योतिष की मानें तो पुखराज धारण करने से विशेषकर आर्थिक परेशानियां कम हो जाती हैं। वहीं यह भी कहा जाता है कि जो व्यक्ति पुखराज धारण करता है  उसे  आर्थिक लाभ मिलना शुरू हो जाता है।

    पुखराज धारण करने के बाद अच्छा स्वास्थ्य, आर्थिक लाभ, लंबी उम्र और मान प्रतिष्ठा प्राप्त होती है। जिन कन्याओं के विवाह में देरी हो रही हो उन्हें पुखराज अवश्य धारण करना चाहिए। जिस दंपति को पुत्र की लालसा हो उन्हें भी पुखराज अवश्य धारण करना चाहिए क्योंकि बृहस्पति पति और पुत्र दोनों कारक होता है, लेकिन इसका ध्यान अवश्य रखा जाए कि किसी भी रत्न को धारण करने से पहले किसी अनुभवी ज्योतिषी की सलाह अवश्य लें।

    पुखराज धारण करने की विधि 

    यदि आप बृहस्पति देव के रत्न, पुखराज को धारण करना चाहते है, तो 3 से 5  कैरेट के पुखराज को स्वर्ण या चांदी की अंगूठी में जड़वाकर किसी भी शुक्ल पक्ष के गुरुवार को सूर्य उदय होने के बाद इसकी प्राण प्रतिष्ठा करवाकर धारण करें। इसके लिए सबसे पहले अंगुठी को दूध, गंगाजल, शहद और शक्कर के घोल में डाल दें, फिर पांच अगरबत्ती ब्रहस्पतिदेव के नाम जलाएं और प्रार्थना करें कि हे बृहस्पति देव मै आपका आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए आपका प्रतिनिधि रत्न पुखराज धारण कर रहा/रहीं हूं, कृपया करके मुझे अपना आशीर्वाद प्रदान करे !

    इसके बाद अंगूठी को निकालकर 108 बारी अगरबत्ती के ऊपर से घुमाते हुए ॐ ब्रह्म बृह्स्पतिये नम: का जाप करे तत्पश्चात अंगूठी विष्णु जी के चरणों से स्पर्श कराकर तर्जनी में धारण करे! बृहस्पति के अच्छे प्रभावों को प्राप्त करने के लिए उच्च कोटि का सिलोनी पुखराज ही धारण करें, पुखराज धारण करने के 30 दिनों में प्रभाव देना आरम्भ कर देता है और लगभग 4 वर्ष तक पूर्ण प्रभाव देता है और फिर निष्क्रिय हो जाता है ! निष्क्रिय होने के बाद आप पुन: नया पुखराज धारण कर सकते है। अच्छे प्रभाव के लिए पुखराज का रंग हल्का पीला और दाग रहित होना चाहिए, पुखराज में कोई दोष नहीं होना चाहिए अन्यथा शुभ प्रभाओं में कमी आ सकती है।

    सुनहला भी हो सकता है पुखराज का विकल्प
    अगर किसी व्यक्ति के पास पैसों की समस्या है तो वह सुनहला भी धारण कर सकता है, हालांकि ये पुखराज जैसा असर तो नहीं दिखाएगा लेकिन काफी सारी समस्याओं का निदान करता है। पीतल या तांबे की धातू में सुनहला को जड़वाकर पुखराज जैसी विधि से ही पहनने से यह लगभग पुखराज जैसा काम करता है। माना तो यहां तक जाता है कि अगर जातक को सुनहला सूट करेगा तो कुछ ही दिन में स्वयं ही व्यक्ति की आर्थिक स्थिति इतनी अच्छी तो हो ही जाएगी कि वह असली पुखराज सोने में जड़वाकर पहन सकता है।

    658.17 incl. GST
  • पुखराज, बृहस्पति ग्रह का प्रतिनिधित्व करता है। यह पीले रंग का एक बहुत मूल्यवान रत्न है जिसकी कार्य क्षमता कई गुना प्रचलित है। ज्योतिष की मानें तो पुखराज धारण करने से विशेषकर आर्थिक परेशानियां कम हो जाती हैं। वहीं यह भी कहा जाता है कि जो व्यक्ति पुखराज धारण करता है  उसे  आर्थिक लाभ मिलना शुरू हो जाता है।

    पुखराज धारण करने के बाद अच्छा स्वास्थ्य, आर्थिक लाभ, लंबी उम्र और मान प्रतिष्ठा प्राप्त होती है। जिन कन्याओं के विवाह में देरी हो रही हो उन्हें पुखराज अवश्य धारण करना चाहिए। जिस दंपति को पुत्र की लालसा हो उन्हें भी पुखराज अवश्य धारण करना चाहिए क्योंकि बृहस्पति पति और पुत्र दोनों कारक होता है, लेकिन इसका ध्यान अवश्य रखा जाए कि किसी भी रत्न को धारण करने से पहले किसी अनुभवी ज्योतिषी की सलाह अवश्य लें।

    पुखराज धारण करने की विधि 

    यदि आप बृहस्पति देव के रत्न, पुखराज को धारण करना चाहते है, तो 3 से 5  कैरेट के पुखराज को स्वर्ण या चांदी की अंगूठी में जड़वाकर किसी भी शुक्ल पक्ष के गुरुवार को सूर्य उदय होने के बाद इसकी प्राण प्रतिष्ठा करवाकर धारण करें। इसके लिए सबसे पहले अंगुठी को दूध, गंगाजल, शहद और शक्कर के घोल में डाल दें, फिर पांच अगरबत्ती ब्रहस्पतिदेव के नाम जलाएं और प्रार्थना करें कि हे बृहस्पति देव मै आपका आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए आपका प्रतिनिधि रत्न पुखराज धारण कर रहा/रहीं हूं, कृपया करके मुझे अपना आशीर्वाद प्रदान करे !

    इसके बाद अंगूठी को निकालकर 108 बारी अगरबत्ती के ऊपर से घुमाते हुए ॐ ब्रह्म बृह्स्पतिये नम: का जाप करे तत्पश्चात अंगूठी विष्णु जी के चरणों से स्पर्श कराकर तर्जनी में धारण करे! बृहस्पति के अच्छे प्रभावों को प्राप्त करने के लिए उच्च कोटि का सिलोनी पुखराज ही धारण करें, पुखराज धारण करने के 30 दिनों में प्रभाव देना आरम्भ कर देता है और लगभग 4 वर्ष तक पूर्ण प्रभाव देता है और फिर निष्क्रिय हो जाता है ! निष्क्रिय होने के बाद आप पुन: नया पुखराज धारण कर सकते है। अच्छे प्रभाव के लिए पुखराज का रंग हल्का पीला और दाग रहित होना चाहिए, पुखराज में कोई दोष नहीं होना चाहिए अन्यथा शुभ प्रभाओं में कमी आ सकती है।

    सुनहला भी हो सकता है पुखराज का विकल्प
    अगर किसी व्यक्ति के पास पैसों की समस्या है तो वह सुनहला भी धारण कर सकता है, हालांकि ये पुखराज जैसा असर तो नहीं दिखाएगा लेकिन काफी सारी समस्याओं का निदान करता है। पीतल या तांबे की धातू में सुनहला को जड़वाकर पुखराज जैसी विधि से ही पहनने से यह लगभग पुखराज जैसा काम करता है। माना तो यहां तक जाता है कि अगर जातक को सुनहला सूट करेगा तो कुछ ही दिन में स्वयं ही व्यक्ति की आर्थिक स्थिति इतनी अच्छी तो हो ही जाएगी कि वह असली पुखराज सोने में जड़वाकर पहन सकता है।

    806.49 incl. GST
  • पुखराज, बृहस्पति ग्रह का प्रतिनिधित्व करता है। यह पीले रंग का एक बहुत मूल्यवान रत्न है जिसकी कार्य क्षमता कई गुना प्रचलित है। ज्योतिष की मानें तो पुखराज धारण करने से विशेषकर आर्थिक परेशानियां कम हो जाती हैं। वहीं यह भी कहा जाता है कि जो व्यक्ति पुखराज धारण करता है  उसे  आर्थिक लाभ मिलना शुरू हो जाता है।

    पुखराज धारण करने के बाद अच्छा स्वास्थ्य, आर्थिक लाभ, लंबी उम्र और मान प्रतिष्ठा प्राप्त होती है। जिन कन्याओं के विवाह में देरी हो रही हो उन्हें पुखराज अवश्य धारण करना चाहिए। जिस दंपति को पुत्र की लालसा हो उन्हें भी पुखराज अवश्य धारण करना चाहिए क्योंकि बृहस्पति पति और पुत्र दोनों कारक होता है, लेकिन इसका ध्यान अवश्य रखा जाए कि किसी भी रत्न को धारण करने से पहले किसी अनुभवी ज्योतिषी की सलाह अवश्य लें।

    पुखराज धारण करने की विधि 

    यदि आप बृहस्पति देव के रत्न, पुखराज को धारण करना चाहते है, तो 3 से 5  कैरेट के पुखराज को स्वर्ण या चांदी की अंगूठी में जड़वाकर किसी भी शुक्ल पक्ष के गुरुवार को सूर्य उदय होने के बाद इसकी प्राण प्रतिष्ठा करवाकर धारण करें। इसके लिए सबसे पहले अंगुठी को दूध, गंगाजल, शहद और शक्कर के घोल में डाल दें, फिर पांच अगरबत्ती ब्रहस्पतिदेव के नाम जलाएं और प्रार्थना करें कि हे बृहस्पति देव मै आपका आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए आपका प्रतिनिधि रत्न पुखराज धारण कर रहा/रहीं हूं, कृपया करके मुझे अपना आशीर्वाद प्रदान करे !

    इसके बाद अंगूठी को निकालकर 108 बारी अगरबत्ती के ऊपर से घुमाते हुए ॐ ब्रह्म बृह्स्पतिये नम: का जाप करे तत्पश्चात अंगूठी विष्णु जी के चरणों से स्पर्श कराकर तर्जनी में धारण करे! बृहस्पति के अच्छे प्रभावों को प्राप्त करने के लिए उच्च कोटि का सिलोनी पुखराज ही धारण करें, पुखराज धारण करने के 30 दिनों में प्रभाव देना आरम्भ कर देता है और लगभग 4 वर्ष तक पूर्ण प्रभाव देता है और फिर निष्क्रिय हो जाता है ! निष्क्रिय होने के बाद आप पुन: नया पुखराज धारण कर सकते है। अच्छे प्रभाव के लिए पुखराज का रंग हल्का पीला और दाग रहित होना चाहिए, पुखराज में कोई दोष नहीं होना चाहिए अन्यथा शुभ प्रभाओं में कमी आ सकती है।

    सुनहला भी हो सकता है पुखराज का विकल्प
    अगर किसी व्यक्ति के पास पैसों की समस्या है तो वह सुनहला भी धारण कर सकता है, हालांकि ये पुखराज जैसा असर तो नहीं दिखाएगा लेकिन काफी सारी समस्याओं का निदान करता है। पीतल या तांबे की धातू में सुनहला को जड़वाकर पुखराज जैसी विधि से ही पहनने से यह लगभग पुखराज जैसा काम करता है। माना तो यहां तक जाता है कि अगर जातक को सुनहला सूट करेगा तो कुछ ही दिन में स्वयं ही व्यक्ति की आर्थिक स्थिति इतनी अच्छी तो हो ही जाएगी कि वह असली पुखराज सोने में जड़वाकर पहन सकता है।

    502.43 incl. GST
  • पुखराज, बृहस्पति ग्रह का प्रतिनिधित्व करता है। यह पीले रंग का एक बहुत मूल्यवान रत्न है जिसकी कार्य क्षमता कई गुना प्रचलित है। ज्योतिष की मानें तो पुखराज धारण करने से विशेषकर आर्थिक परेशानियां कम हो जाती हैं। वहीं यह भी कहा जाता है कि जो व्यक्ति पुखराज धारण करता है  उसे  आर्थिक लाभ मिलना शुरू हो जाता है।

    पुखराज धारण करने के बाद अच्छा स्वास्थ्य, आर्थिक लाभ, लंबी उम्र और मान प्रतिष्ठा प्राप्त होती है। जिन कन्याओं के विवाह में देरी हो रही हो उन्हें पुखराज अवश्य धारण करना चाहिए। जिस दंपति को पुत्र की लालसा हो उन्हें भी पुखराज अवश्य धारण करना चाहिए क्योंकि बृहस्पति पति और पुत्र दोनों कारक होता है, लेकिन इसका ध्यान अवश्य रखा जाए कि किसी भी रत्न को धारण करने से पहले किसी अनुभवी ज्योतिषी की सलाह अवश्य लें।

    पुखराज धारण करने की विधि 

    यदि आप बृहस्पति देव के रत्न, पुखराज को धारण करना चाहते है, तो 3 से 5  कैरेट के पुखराज को स्वर्ण या चांदी की अंगूठी में जड़वाकर किसी भी शुक्ल पक्ष के गुरुवार को सूर्य उदय होने के बाद इसकी प्राण प्रतिष्ठा करवाकर धारण करें। इसके लिए सबसे पहले अंगुठी को दूध, गंगाजल, शहद और शक्कर के घोल में डाल दें, फिर पांच अगरबत्ती ब्रहस्पतिदेव के नाम जलाएं और प्रार्थना करें कि हे बृहस्पति देव मै आपका आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए आपका प्रतिनिधि रत्न पुखराज धारण कर रहा/रहीं हूं, कृपया करके मुझे अपना आशीर्वाद प्रदान करे !

    इसके बाद अंगूठी को निकालकर 108 बारी अगरबत्ती के ऊपर से घुमाते हुए ॐ ब्रह्म बृह्स्पतिये नम: का जाप करे तत्पश्चात अंगूठी विष्णु जी के चरणों से स्पर्श कराकर तर्जनी में धारण करे! बृहस्पति के अच्छे प्रभावों को प्राप्त करने के लिए उच्च कोटि का सिलोनी पुखराज ही धारण करें, पुखराज धारण करने के 30 दिनों में प्रभाव देना आरम्भ कर देता है और लगभग 4 वर्ष तक पूर्ण प्रभाव देता है और फिर निष्क्रिय हो जाता है ! निष्क्रिय होने के बाद आप पुन: नया पुखराज धारण कर सकते है। अच्छे प्रभाव के लिए पुखराज का रंग हल्का पीला और दाग रहित होना चाहिए, पुखराज में कोई दोष नहीं होना चाहिए अन्यथा शुभ प्रभाओं में कमी आ सकती है।

    सुनहला भी हो सकता है पुखराज का विकल्प
    अगर किसी व्यक्ति के पास पैसों की समस्या है तो वह सुनहला भी धारण कर सकता है, हालांकि ये पुखराज जैसा असर तो नहीं दिखाएगा लेकिन काफी सारी समस्याओं का निदान करता है। पीतल या तांबे की धातू में सुनहला को जड़वाकर पुखराज जैसी विधि से ही पहनने से यह लगभग पुखराज जैसा काम करता है। माना तो यहां तक जाता है कि अगर जातक को सुनहला सूट करेगा तो कुछ ही दिन में स्वयं ही व्यक्ति की आर्थिक स्थिति इतनी अच्छी तो हो ही जाएगी कि वह असली पुखराज सोने में जड़वाकर पहन सकता है।

    723.99 incl. GST

About Us

About us

SAMISEJ jewels was founded in 2015 by Prashant ahirrao,  an businessman with a jewelry background. His vision is to make fine jewelry available to everyone with unmatched craftsmanship and quality. in the last 7 years,  the EXCLUSIVITY of our designs for our buyers from divers cultures and tastes has not only made our catalog versatile but also helped us make a powerful and dominant place for ourselves.

Our products exhibit a diversification of cultures much like our customers whose LOYALTY is not just an asset from our patrons but also a value towards our customers. Our faith in them is as unwavering as their towards us.

Based on 40 reviews.
jagdish patil
jagdish patil
27. June, 2022.
Service is to good, silver product, gemstons, all explore on website, I recommend to all
Kalpesh Chandile
Kalpesh Chandile
14. June, 2022.
Best quality products, service to good, over all nice experience... I genuinely recommended Samisej shop..
Ravindra Randhir
Ravindra Randhir
13. June, 2022.
Madhuri Ahirrao
Madhuri Ahirrao
10. June, 2022.
Awesome buchhudi design, pure silver Quality
Manasi Baheti
Manasi Baheti
9. June, 2022.
According to be the samisej jewels are the best and I truly recommend all to go and buy the jewellery from them... The quality and the product designs are unique and amazing and also the customer service is best 🤩
Anil Patil
Anil Patil
2. June, 2022.
Good silver collection, and all over genuine products, nice online purchase experience must visit,,, thanks samisej jewels.
KAMLESH VISPUTE
KAMLESH VISPUTE
2. June, 2022.
Very good experience , service is excellent
Vinod Patil
Vinod Patil
31. May, 2022.
I am purchase online silver payal, too good design 👌, best price under 5k collection, explore gemstone collection, morani collection, & bichhiya... very good experience... Must visit..👍 thanks SAMISEJ jewels.
Avi Patil
Avi Patil
31. May, 2022.
Nice and different collection of jewels...Must visit..!!👍👍💐💐
Ganesh Patil
Ganesh Patil
24. May, 2022.
Good

Newsletter

For getting new products notification subscribes us with email...